स्वर कोकिला के निधन से शोक की लहर:मथुरा में संगीत जगत से जुड़े लोगों के साथ राज नेताओं ने भी जताया शोक

सुर की मलिका और भारत रत्न से सम्मानित लता मंगेशकर के निधन से देश भर में शोक की लहर है। लता जी के निधन से भगवान राधा कृष्ण की भूमि भी शोक ग्रस्त है। यहां संगीत जगत से जुड़े लोगों के अलावा राज नेताओं ने भी उनके निधन पर दुःख जताया है।

1956 से 1976 तक आती थीं वृंदावन

सूफी गायक जे एस आर मधुकर ने बताया कि सुर सम्राट लता मंगेशकर जी 1956 से लेकर 1976 तक वृंदावन कई बार आईं। लता जी ने उनके पिता अशुदाराम जी को भाई भी बनाया। इस दौरान वह कई बार बांके बिहारी जी की प्रकट्य स्थली निधिवन भी गयीं। जे एस आर मधुकर के अनुसार उनके पिता लता मंगेशकर जी के नाम से आगरा में 1960 से 1970 तक संगीत समारोह भी करते थे। जे एस आर मधुकर ने बताया कि वह सुर की सरस्वती थीं। लता जी बसंत पंचमी के दिन हमें अलविदा करके नहीं गयी। उन्होंने मां सरस्वती की आराधना करके तत्पश्चात इस शरीर को बसंत पंचमी के अगले दिन त्यागा।

हेमा मालिनी ने स्वर कोकिला लता मंगेशकर के निधन पर जताया दुःख

हेमा मालिनी ने बताया कि लता जी की आवाज किसी जादू से कम नहीं थी और उन्होंने हमारे हिट फिल्म के साथ-साथ अन्य फिल्मों में भी अपनी आवाज दी। उनकी आवाज का जादू सिर्फ गानों में ही नहीं था सामान्य बातचीत में भी था। आज उनका ना होना बहुत बड़ी क्षति है लोग आज भी गा रहे हैं गाते रहेंगे। लेकिन लता जी की आवाज अपने आप में किसी कोयल से कम नहीं थी और अब शायद वह सुनने को बहुत समय तक ना मिले। जो आया है उसको जाना है लेकिन लता जी का जाना संगीत के एक अध्याय को विराम देने जैसा है।

भाजपा, कांग्रेस नेता बोले लता जी को नहीं भुलाया जा सकता

कांग्रेस के पूर्व विधान मंडल दल नेता प्रदीप माथुर ने सुर की गायिका लता मंगेशकर के निधन पर कार्य की प्रसिद्ध संगीत सम्राट की उपाधि पाने वाली प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर जी के निधन पर दुख व्यक्त करता हूं। अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त संगीत की गायिका थी। उन्होंने देश का ही नहीं पूरे विश्व में बचपन से लेकर लंबी उम्र तक हजारों गाने गाए हैं। संगीत की दुनिया में उन्होंने अपना नाम कमाया। सूचना मिली की लता जी अब इस दुनिया में नहीं रहीं उनके प्रति श्रद्धांजलि सलाम मन करता हूं।

संगीत की सम्राट गायिका लता मंगेशकर के निधन पर देशभर में शोक की लहर दौड़ पड़ी। राजनीतिक दलों के नेताओं ने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी। प्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने लता मंगेशकर जी के निधन पर कहा कि बहुत ही दुखद जानकारी है। पूरा देश लता जी का हमेशा से मुरीद रहा है। इस तरह से लता जी के जाने से सब लोग दुखी हैं। सब लोग प्रार्थना करते हैं उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। लता जी हमेशा लोगों के दिल में रहेंगी। लता जी की आवाज हमारे बीच में रहेगी।

पूरा देश शोक में है प्रार्थना करते हैं कि उनकी आत्मा को ईश्वर शांति प्रदान करें मैं भी उनको श्रद्धांजलि देता हूं । निश्चित रूप से उन्होंने जो देश के लिए किया है खास तौर से उनके देशभक्ति के गीत लोगों के दिलों में आज भी राज करते हैं। लता जी चाहे कोई बड़ा हो या छोटा हो या कोई मिलने वाला हर घर में लता जी की यादें हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.